शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने मनाया विश्व पृथ्वी दिवस    

Date:

Share post:

Shemrock Roses Play School

कीक्ली रिपोर्टर, 20 अप्रैल, 2018, शिमला

शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने दो दिन पूर्व ही विश्व पृथ्वी दिवस मनाया।  स्कूल की प्रधानाचार्य प्रीति चुट्टानी ने बताया कि स्कूल में दो दिन अवकाश होने के चलते आज स्कूल प्रबंधक ने शुक्रवार को ही यह दिवस मनाया ताकि बच्चों को विश्व पृथ्वी दिवस का महत्व समझया जा सके। उन्होंने बताया कि पहली बार, इसे 1970 में मनाया गया और उसके बाद से लगभग 192 देशों के द्वारा वैश्विक आधार पर सालाना इस दिन को मनाने की शुरुआत हुई।

विश्व पृथ्वी दिवस को एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में मनाने की शुरुआत इसके मुद्दे को सुलझाने के द्वारा पर्यावरणीय सुरक्षा का बेहतर ध्यान देने के लिये, राष्ट्रीय समर्थन प्राप्त करने के लिये के लिये की गयी। 1969 में, सैन फ्रांसिस्को के जॉन मैककोनल नाम के एक शांति कार्यकर्ता जो सक्रियता से इस कार्यक्रम को शुरु करवाने में शामिल थे, ने एक साथ मिलकर पर्यावरणीय सुरक्षा के लिये इस दिन को मनाने का प्रस्ताव रखा। 21 मार्च 1970 को वसंत विषुव में मनाने के लिये इस कार्यक्रम को जॉन मैककोनेल ने चुना था जबकि 22 अप्रैल 1970 को इस कार्यक्रम को मनाने के लिये अमेरिका के विंसकॉन्सिन सीनेटर गेलॉर्ड नेल्सन ने चुना था।

बेहतर भविष्य के लिये अपने पर्यावरणीय मसले को सुलझाने के लिये इन्होंने लोगों को इस कार्यक्रम में एक-साथ होकर जुडऩे के लिये संपर्क किया था। विश्व पृथ्वी दिवस के पहले समारोह के दौरान लाखों लोगों ने इसमें अपनी इच्छा जताई और इस कार्यक्रम का लक्ष्य समझने के लिये भाग लिया। विश्व पृथ्वी दिवस के लिये कोई एक तारीख निर्धारित करने के बजाय, इसको दोनों दिन मनाने की शुरुआत हुयी। आमतौर पर, पूरे विश्वभर में जरुरी क्षेत्रों में नये पौधे को लगाने के आम कार्य के साथ पृथ्वी दिवस कार्यक्रम को मनाने की शुरुआत हुयी।

22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस उत्सव की तारीख की स्थापना करने के अच्छे कार्य में भागीदारी के लिये अमेरिका के विस्कॉन्सिन सीनेटर गेलॉर्ड नेल्सन को स्वतंत्रता पुरस्कार के राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित किया गया। बाद में लगभग 141 राष्ट्रों के बीच वर्ष 1990 में डेनिस हेज़ (वास्तविक राष्ट्रीय संयोजक) के द्वारा वैश्विक तौर पर पृथ्वी दिवस के रुप में 22 अप्रैल को केन्द्रित किया था। बहुत सारे पर्यावरणी मुद्दे पर ध्यान केन्द्रित करने के लिये पृथ्वी सप्ताह के नाम से पूरे सप्ताह भर के लिये ज्यादातर पृथ्वी दिवस समुदाय ने इसे मनाया। इस तरीके से 22 अप्रैल 1970 को आधुनिक पर्यावरणीय आंदोलन के वर्षगाँठ के रुप में चिन्हित किया गया।

इसी कड़ी में स्कूल के आस-पास पेड़ पौधे लगाए। साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम समारोह आयोजन किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

शिक्षा मंत्री ने की “शान ए नुनाड़” वॉलीबाल प्रतियोगिता के समापन समारोह की अध्यक्षता 

शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर ने जुब्बल के शुराचली क्षेत्र के अंतर्गत झगटान में नवयुवक मण्डल झगटान द्वारा आयोजित...

शिक्षा मंत्री ने झड़ग-नकराड़ी स्कूल के भवन का किया लोकार्पण

शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर आज जुब्बल क्षेत्र के एक दिवसीय प्रवास के दौरान झड़ग, ठाना, मांदल और झगटान के...

विक्रमादित्य सिंह ने संजीवनी सहारा समिति के सम्मान समारोह में की शिरकत

संजीवनी सहारा समिति द्वारा 5वां संजीवनी प्रतिभा सम्मान समारोह "शान ए रोहड़ू" का आयोजन रविवार को रोहड़ू के...

Himachal Samachar 14 07 2024

https://youtu.be/1c-QBfjWfwg?si=oQZmXz-9d-KKZl8a Daily News Bulletin