शैमरॉक रोजेंस स्कूल के बच्चों ने धूमधाम के साथ मनाया मातृ-दिवस

Date:

Share post:

कीकली रिपोर्टर, 12 मई, 2019, शिमला

शैमरॉक रोजेंस स्कूल, कच्चीघाटी, के बच्चों को वाटिका रिज़ार्ट शोधी में मातृ-दिवस बड़े धूम धाम के साथ मनाया। बच्चों  व स्कूल प्रबंधक के साथ सभी बच्चों के माताओं ने मिल कर मातृ-दिवस मनाया। बच्चों ने अपनी माताओं को उपहार देकर मातृ-दिवस का आगाज़ किया।  स्कूल प्रधानाचार्य प्रीति चुट्टानी ने बच्चों को बताया कि हमारी माँ हमारे लिये सुरक्षा कवच की तरह होती है क्योंकि वो हमें सभी परेशानियों से बचाती है। वो कभी अपनी परेशानियों का ध्यान नहीं देती और हर समय बस हमें ही सुनती है। माँ को सम्मान देने के लिये हर वर्ष मई महीने के दूसरे रविवार को मातृ-दिवस के रुप में मनाया जाता है।

ये कार्यक्रम हमारे और हमारी माँ के लिये बहुत महत्वपूर्णं है। इस दिन पर हमें अपनी माँ को खुश रखना चाहिये और उन्हें दुखी नहीं करना चाहिये। हमें उनकी हर आज्ञा का पालन करना चाहिये और काम को सही तरीके से करना चाहिये। वो हमेशा हमें जीवन में एक अच्छा इंसान बनाना चाहती है।

उन्होंने कहा कि एक साथ इसे मनाने के लिये मदर्स डे पर हर साल हमारे स्कूल में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। इस दिन की पूरी तैयारी के लिये हमारे शिक्षक हमारी खूब मदद करते है। इस उत्सव को मनाने के लिये हम ढ़ेर सारी कविता, तुकबंदी, निबंध, भाषण, संवाद आदि तैयार करते है। ईश्वर के आशीर्वाद से हमें एक प्यार करने वाली और ध्यान देने वाली माँ मिली है। बिना माँ के हमारा जीवन कुछ भी नहीं है। हमलोग बहुत भाग्यशाली है कि हमारे पास माँ है। हम सभी अपनी माँ को ढ़ेर सारा उपहार देते है और वो हमें ढ़ेर प्यार तथा हमारी देख-भाल करती है। उत्सव की शोभा बनने के लिये हमारे शिक्षक हमें अपनी माँ को स्कूल में आने के लिये निमंत्रण कार्ड देते है।

उन्होंने कहा कि हमारी खुशी के लिये माँ कक्षा में नृत्य, गायन, कविता पाठ, भाषण आदि जैसे कई सारे क्रियाओं में भाग लेती है। अपनी माँ और शिक्षक के समक्ष हम भी इस उत्सव में भाग लेते है (जैसे कविता पाठ, निबंध लेखन, भाषण, गायन, नृत्य आदि) और अपनी प्रतिभा दिखाते है। हमारी माँ स्कूल में अपने साथ ढ़ेर सारे स्वादिष्ट पकवान ले आती है। उत्सव के समापन पर, अपनी माँ और शिक्षक के साथ उन लज़ीज़ व्यंजनों का आनन्द उठाते है। हमारी माँ के द्वारा हमें ढ़ेर सारे पकवान खाने को मिलते है।

उन्होंने कहा कि हमारी माँ बहुत खास होती है। थकी हुई होने के बावजूद वह हमारे लिये हमेशा मुस्कुराती रहती है। रात में सोते समय वह हमें बहुत सारी कविताएँ और कहानियाँ सुनाती है। माँ हमारे गृह-कार्य, प्रोजेक्ट और परीक्षा के समय बहुत मदद करती है। वह हमारे स्कूल ड्रेस का ध्यान रखती है। वह हमें सिखाती है कि खाना खाने से पहले हाथ को अच्छी तरह से साबुन से धो लेना चाहिये। वह हमें अच्छा शऊर, शिष्टाचार, नैतिकता, इंसानियत और हमेशा दूसरो की मदद करना सिखाती है। वह हमारे पिता, दादा-दादी और छोटी बहन का ध्यान रखती है। हम सभी उनको बहुत प्यार करते है और हर सप्ताह उन्हें बाहर घुमाने ले जाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

Possibilities of merging schools having low enrolments to be explored

Chief Minister Thakur Sukhvinder Singh Sukhu said that the state government was laying special focus on providing quality...

Himachal Samachar 23 07 2024

https://youtu.be/ZXToC9V3aWY Daily News Bulletin

शिमला में 15 सितंबर तक साहसिक खेल गतिविधियों पर प्रतिबंध

जिला पर्यटन विकास अधिकारी संजय भगवती ने आदेश जारी करते हुए बताया कि बरसात के मौसम के दौरान...

Kargil Vijay Diwas Rajat Jayanti Mahotsav to be held in Shimla

Headquarter Army Training Command located at Shimla is celebrating 'Kargil Vijay Diwas Rajat Jayanti Mahotsav' at The Ridge,...