कीकली रिपोर्टर, 16 सितम्बर, 2018, शिमला

हिमालय साहित्य एवं संस्कृति मंच द्वारा विनोद विट्ठल की बनास जन द्वारा प्रकाशित कविता पुस्तक “पृथ्वी पर दिखी पाती” का लोकार्पण वरिष्ठ कवि आलोचक श्रीनिवास श्रीकांत के सानिध्य में रविवार 16 सितम्बर 2018 ko शिमला माल रोड स्थित रोटरी टाउन हाल में व्यापक रूप में शहर के लेखकों और साहित्य प्रेमियों  की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। बनास जन दिल्ली से प्रकाशित होने वाली देश की प्रतिष्ठित साहित्यकी पत्रिका हैI विनोद विट्ठल और पधारे लेखकों का स्वागत करते हुए मंच के अध्यक्ष व लेखक एस आर हरनोट ने कवि को पुस्तक प्रकाशन पर बधाई दी और कविता ही की तरह एक अनूठे अंदाज में इस पुस्तिका पर अपनी प्रतिकिया व्यक्त की I

उन्होंने शिमला शहर में इसे अर्से बाद एक गंभीर और यादगार आयोजन बताया जिसमें 55 करीब लेखक, संस्कृत कर्मी और साहित्य प्रेमी मौजूद रहे I कविताओं पर बात करते हुए चर्चित कवि आत्मा  रंजन ने इन कविताओं में कॉर्पोरेट समय के फस्ट हैंड अनुभवों को रेखांकित करते हुए इन्हें हैक हो चुके मनुष्य और मनुष्यता की चिंताओं की कविताएं बताया । दूसरे वक्ता गुप्तेश्वर उपाध्याय ने अंग्रेजी साहित्य कई उद्धरण दे कर इन्हें नई सोच की कविताएं बताया। विनोद विट्ठल मूलतः जोधपुर के निवासी हैं जो इन्पिच्ले कई सालो से किन्नौर के छोलतू में स्थित JSW उर्जा के corporate अफेयर्स में अधिकारी हैं।

इस अवसर पर विनोद विट्ठल ने इस पुस्तक में से अड़तालीस साल का आदमी, टी शर्ट: वारेन बफेट और गीत चतुर्वेदी के लिए, रफ़ कॉपी पर दर्जन भर रफ़ कवितायेँ, वे पांच थीं, पृथ्वी पर दिखी पाती जैसी चर्चित कविताओं के साथ अनेक कविताओं का पाठ किया जिसे श्रोताओं ने खूब सराहा। उन्होंने अपने वक्तव्य में अपनी कविताओं को अनरिपोर्टेड दुनिया की चिट्ठियाँ चिठियाँ बताते हुए पाठकों से कहा कि इन्हें संभालिये। उन्होंने इस शानदार आयोजन के लिए हिमालय मंच और विशेषकर शिमला के स्लेखाक और साहित्य प्रेमियों को को धन्यवाद दिया। आयोजन में शहर भर के 55 से अधिक लेखकों और संस्कृति कर्मियों यथा कुल राजीव पंत, के डी श्रीधर, रमा शंकर सिंह, ओम प्रकाश शर्मा, विद्या निधि, सतीश सोनकर, अश्वनी गर्ग, राकेश कुमार सिंह, दिनेश शर्मा, सुनीला शर्मा, देव कन्या ठाकुर, भारती कुठियाला, आंनद प्रकाश शर्मा, अंजली दीवान, शांति स्वरूप शर्मा, मोनिका छट्टू, अश्वनी कुमार, यादव चंद, निर्मल शर्मा, दीपक भारद्वाज, वंदना राणा, राधा मेहता आदि शामिल रहे। मंच का सफल संचालन युवा कवि कौशल मुंगटा ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here