मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज ऐतिहासिक माल रोड़ शिमला स्थित जीर्णोद्धार धरोहर पुलिस सहायता कक्ष का लोकार्पण किया।

इस अवसर पर संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 134 वर्षों से कार्यरत पुलिस सहायता कक्ष का महत्त्व आज भी बना हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार धरोहर इमारतों के संरक्षण के लिए निरंतर प्रयास कर रही है।

उन्होंने निगमित सामाजिक दायित्व (सीएसआर) के तहत काॅरपोरेट संस्थाओं से विकास कार्यों में सहयोग प्रदान करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट काल के दौरान भी बहुत सी संस्थाओं ने सीएसआर के तहत स्वास्थ्य अधोसंरचना को सुदृढ़ करने में मदद प्रदान की है। जय राम ठाकुर ने धरोहर पुलिस सहायता कक्ष के जिर्णोद्धार के लिए पुलिस विभाग की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस सहायता कक्ष में माध्यम से लोगों विशेषकर पर्यटकों को पुलिस सहायता प्राप्त करने में सुविधा उपलब्ध होगी।

शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने धरोहर पुलिस सहायता कक्ष के जीर्णोंद्धार के लिए पुलिस विभाग की सराहना की। उन्होंने कहा कि शिमला ऐतिहासिक महत्त्व का पर्यटन स्थल है इसलिए सरकार द्वारा यहां धरोहर भवनों के संरक्षण के लिए दृढ़ प्रयास किए जा रहे हैं।

पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू ने कहा कि पुलिस सहायता कक्ष के जीर्णोद्धार के लिए 25 लाख रुपये व्यय किए गए हैं इसमें 15 लाख एसीसी ट्रस्ट तथा 10 लाख रुपये भारतीय स्टेट बैंक द्वारा निगमित सामाजिक दायित्व के तहत प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि जीर्णोद्धार द्वारा कक्ष को ऐतिहासिक धरोहर का स्वरूप देने का प्रयास किया गया है।

इस अवसर पर महापौर नगर निगम शिमला सत्या कौंडल, नगर निगम के पार्षद, भारतीय स्टेट बैंक के सीजीएम विनोद कुमार मिश्रा, एसीसी के प्लांट प्रमुख अमिताभ सिंह, वास्तुकार अमिता महाजन, पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, एसीसी व एसबीआई के प्रतिनिधि और अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here