The creativity and imagination of our budding writers at such a young age is  amazing. The clarity of thought, the expressive flow of ideas and words, and the command over language is highly commendable. The steps leading to the conception and final release of the book titled 51 Scintillating Tales – Short Stories by Children and its successful acceptance in the literary circles was quite encouraging for the young writers and that filled them with a feeling of proud accomplishment.

Following suit, we planned yet another short story competition for children under the age group of eighteen years. This time they were given an open theme, with a word limit of 1,000 to 5,000. The competition was held over a span of four months from April to July, 2022, and each month two winners were selected to be awarded a cash prize along with an assured place in the top 31 list of stories. Our winners for the four months were, Sanskriti Rao and Pritha Doegar in April; Shivangi Sharma and Aanika Gajendragad in May; Ananya Thakur and Charu Sharma in June; and Baani Simar Kaur and Vasundhara Joshi in July.

The young budding authors whose imagination and creativity together churned out a few mind-blowing stories, made it very difficult for the jury to award points and select the best thirty-one. Our esteemed panel of judges—Dr Vidyanidhi Chhabra, Gunjan Batra, Jael Priscilla, Prantik Bose, Rachna Rohatgi, Astha Chadha, Parveen Bhalla, and Tanaya Ghose Dastidar—had very encouraging words to share about the writers.

The winners were given feedback and ideas were also shared when a story needed a bit of improvement or building the characters more strongly or further working on the theme to make them ready for print. The children were also given a choice to supplement their stories with suitable self-drawn sketches.

Bringing something new for children gave birth to another idea, that is, to have them record their own stories, thus giving the reader the option to either read the story or listen to it via a podcast channel. Each story title page features a QR Code, that can be scanned with any smartphone to listen to the stories. Thus, we now introduce you to Keekli’s very own Podcast Channel, ‘Keekli – Little Steps Big Strides’. After auditions and voice-over training guidelines few selected children recorded all these stories for you to listen to. Due to paucity of time, a few stories were recorded by our team members as well. But this only adds to our resolve that the book and most of its elements are adapted by children. The credit for the book design cover too goes to two of our winners, Atharv Vats and Pritha Doegar.

We at KEEKLI are proud to present this incredible collection – Fiction Treasure Trove – 31 Short Stories by Children, edited by Sonia Dogra & Vandana Bhagra. We have put our hearts and souls into this prestigious project, and we hope that you will cherish each moment of reading this book.

***

कीकली की पायलट परियोजना की सफलता ने हमें आश्वस्त किया कि हम सही रास्ते पर हैं और बच्चों और किताबों के बीच की दूरी को कम करने में हम सक्षम रहे ।  उनके हाथ में जो किताब थी, उससे बड़ा इनाम उन्हें कोई नहीं मिल सकता था।

इस वर्ष हमने दो लघु कहानी प्रतियोगिताओं की योजना बनाई, एक अठारह वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए, जिसका शीर्षक फिक्शन ट्रेजर ट्रोव है, और दूसरी हिमाचल प्रदेश के वरिष्ठ लेखकों के लिए थी, जिसका शीर्षक था, हिमाचल के रंग — हिमाचल में आधारित वास्तविक जीवन के अनुभवों पर राज्य के लेखकों द्वारा रचित कहानियाँ। ये कहानियाँ पीढ़ियों से चली आ रही पारंपरिक कहानियों से लेकर पारिवारिक कहानियों तक हो सकती हैं जो राज्य की संस्कृति और परंपरा को उजागर करती हैं।

हमारे जूरी मेंबर्स के लिए सर्वश्रेष्ठ  कहानिया चुनना बहुत मुश्किल कार्य था । हमारे सम्मानित पैनल में — डॉ रेखा वशिष्ठ; डॉ पूर्णिमा चौहान (आईएएस सेवानिवृत्त); प्रोफेसर और प्रिंसिपल मीनाक्षी फेथ पॉल और डॉ विद्यानिधि छाबड़ा — रहे, जिन्होंने गुमनाम रूप से न्याय किया ताकि हमारी प्रतियोगिता की प्रामाणिकता और वैधता बनाए रखने के लिए निष्पक्षता से कहानियाो को अंक प्रदान किये जा सके।

अगला चरण कहानियों का संपादन था । डॉ विद्यानिधि छाबड़ा, श्रीमती राधा सिंह, कुलदीप वर्मा और डॉ विजय लक्ष्मी नेगी जी ने एक अभिन्न भूमिका निभाई और साझा मूल्यवान प्रतिक्रिया भी दी। हिमाचल के रंग — कथा पच्चीसी की संपादक वंदना भागड़ा ने पूरा प्रयास किया है की आपको एक उत्कृष्ट कहानियो का संग्रह पढ़ने को मिले।

कुछ उल्लेखनीय नाम है कुलदीप वर्मा और पृथा डोगर,  जिन्होंने समय निकाल कर इन कहानियों को पढ़ा और आवाज प्रदान की। सभी पच्चीस कहानियाँ अब आप सुन भी सकते है कीकली के पॉडकास्ट चैनल पर, जिसका शीर्षक है, ‘Keekli – Little Feet, Big Strides’।

एक लेखक के सबसे महत्वपूर्ण धरोहर उनकी कहानियाँ हैं, उनके शब्द और वे क्या लिखते हैं, इस प्रकार दर्शकों को स्वीकार करके निर्णय लेने देते हैं, उन्हें उनके पहले समालोचक भागीदार के रूप में । हम उनके आभारी हैं, की वह हमें उनकी कहानियों को प्रकाशित करने का सम्मान दे रहे है। कीकली में हम इस अविश्वसनीय संग्रह को पेश करते हुए गर्व महसूस कर रहे हैं।

हमने इस प्रतिष्ठित परियोजना में अपना अंतर मन लगाया है, और हम आशा करते हैं कि आप इस पुस्तक को पढ़ने के प्रत्येक क्षण को संजो कर रखेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here