भीम सिंह, गांव देहरा हटवाड़, जिला बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश ।

मित्र तो मित्र के संकट पर
रात-रात भर नहीं सोते
जो मुसीबत पर साथ न दे
वे कभी मित्र नहीं होते ।

मित्र हुए संसार में
सुदामा और श्याम
मित्रता के लिए अमर हुए
इन दोनों के नाम ।

मित्रता दुर्योधन से
कर्ण ने थी निभाई
अपने मित्र के लिए रण में
शीश थी कटाई ।

आजकल के मित्र तो
मतलव के हैं यार
अच्छे दिनों में साथ-साथ
दुख में दरकिनार।

ऐसे मित्र से हमेशा
आप रहना सावधानBhim Singh

मित्रता की आड़ में
जो पहुंचाते हैं नुकसान।

1 COMMENT

  1. बेहद खूबसूरत !! शुभ मित्रता दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। सदा हम सब लोग मित्रता के सूत्र में बंधे रहें, यही ईश्वर से कामना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here