22.4 C
Shimla
September 22, 2023

Home Tags Children stories

Tag: children stories

ज़िंदगी – (मंडयाली नक्की कहाणी)

दो सहेलियाँ — रणजोध सिंह

0
रणजोध सिंह बहुत कम लोग होते हैं जो अपने बचपन के दोस्तों के साथ ताउम्र रिश्ता बनाये रखते हैं, खासतौर पर लडकियाँ | लेकिन पाखी और महक इस का अपवाद थी |...

Baani Kaur Engages Atma Ranjan in a Poetic Conversation — व्यक्तित्व – बातचीत का...

0
An educator, a poet, an avid reader and a reviewer, Atma Ranjan shares his life's journey with our young interviewer Baani Kaur as she engages in conversation trying to learn from...

गणित दोस्ती का — रणजोध सिंह

0
रणजोध सिंह अंकित रात भर सो ना पाया था | मस्तिष्क में स्मृतियाँ किसी चल चित्र की भांति चल रही थीं | उसने देखा राजू उसका सबसे प्रिय मित्र है, जिसके साथ...

Persistence, Feelings & Expression Are Necessary to Become a Writer

0
https://youtu.be/-OcDvUacXTI After years of experience as an accountant and an auditor with the Himachal Pradesh Tourism Development Corporation, Ranjodh Singh finally found his calling when he resigned and joined as a teacher...

“फ्लाइंग किस” किस के लिए? जो पकड़ ले उसके लिए

0
मनमोहन सिंह कुछ दिन पहले हमारे ज्ञान में इज़ाफ़ा हुआ। हमें पता चला की नारी की अस्मत पर सबसे खतरनाक हमला "फ्लाइंग किस" नामक जदीद हथियार से ही होता है। हम अभी...
खिल सकते है दबे हुए मसले हुए फूल शर्त ये है उन्हें सिने से लगाना होगा|

शिष्टाचार — रणजोध सिंह

0
रणजोध सिंह भोला राम जिसे प्यार से गाँव के सभी लोग भोलू कहकर पुकारते थे, आरम्भ से ही न केवल कुशाग्र बुद्धि का स्वामी था अपितु अत्याधिक मेहनती भी था | यही...

“व्यक्तित्व – बातचीत का कारवां” – Pritha Doegar In Conversation with Meenakshi Faith Paul

0
When you label people, you are basically labelling yourself; it is your own mindset that you are projecting! – Meenakshi Faith Paul The second episode of “व्यक्तित्व - बातचीत का कारवां” featured...

व्यक्तित्व — बातचीत का कारवां: 52 Weeks; 52 Personas; 52 Interviews

0
Keekli Book Club presents yet another innovative idea that gives wings to our young budding readers and writers from Shimla City, who will now sit with senior writers in engaging conversations,...
ज़िंदगी – (मंडयाली नक्की कहाणी)

खुशियों की चाबी — रणजोध सिंह

0
रणजोध सिंह श्याम प्रसाद जी अपने तीनों पुत्रों, पुत्र-वधुओं तथा पोते-पोतियाँ संग सड़क पर खड़े होकर अपने भतीजे की शादी में शामिल होने के लिए बस का इन्तजार कर रहे थे |...
ज़िंदगी – (मंडयाली नक्की कहाणी)

उड़ान — रणजोध सिंह

0
रणजोध सिंह विवाह के लगभग तीन साल बाद केसरो अपने गांव की सबसे सुघड़ महिला जिसे सभी लोग प्यार से ‘मौसी’ कहते थे, से मिलने आई थी | अकसर बेटियाँ विवाह उपरांत...
Love Story

Golden Radiance and Silver Luminescence: A Love Story

0
Khushboo Agrahari, New Delhi Once upon a time, in a celestial realm far beyond the reach of humanity, there existed a magical love story between the Moon and the Sun. They were...

जल्लाद बुढ़िया — जयवन्ती डिमरी

0
जयवन्ती डिमरी आज सुबह शोरगुल से फिर उसकी नींद खुल गयी। खिड़की खोलकर बाहर झांका। बिल्कुल घुप्प अंधेरा था। उसने जी-भर कर इस मोहल्ले को कोसा। चार पैसे बचाने के चक्कर में...